भारत के तीन खिलाड़ी एशियाई जूनियर मुक्केबाजी के फाइनल में

भारत के तीन मुक्केबाजों ने मंगलवार की रात को आसान जीत के साथ दुबई में चल रही एशियाई जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया।

रोहित चमोली (48 किग्रा) और भरत जून (81 किग्रा से अधिक) ने लड़कों के जूनियर वर्ग में जबकि मुस्कान (46 किग्रा) ने लड़कियों के वर्ग के फाइनल में जगह बनायी।

जून ने किर्गिस्तान के अमीर खान रजापोव को 5-0 से और चमोली ने कजाकिस्तान के एदार कादिरखान को इसी अंतर से हराया। मुस्कान ने कजाकिस्तान की येल्यानुर तुर्गानोवा को सर्वसम्मत फैसले से हराकर खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया।

सुप्रिया रावत (66 किग्रा) को हालांकि सनोवर बोजोरबोएवा से 1-4 से और आरज़ू (54 किग्रा) को भी उज्बेकिस्तान की गुलदाना टिलुएरगेन से 2-3 से हार का सामना करना पड़ा। लड़कियों के एक अन्य सेमीफाइनल में देविका घोरपड़े (50 किग्रा) को उज्बेकिस्तान की शाइना नेमाटोवैन ने 5-0 से हराया।

लड़कों के वर्ग में अंकुश (66 किग्रा) को अपने अंतिम चार के मुकाबले में उज्बेकिस्तान के फाजलिद्दीन एर्किनबोव ने 0-5 से हार झेलनी पड़ी।

इन चारों को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा।

इस महाद्वीपीय चैंपियनशिप का आयोजन पहली बार युवा और जूनियर वर्ग में एक साथ किया जा रहा है।

भारत ने ड्रा के दिन ही अपने लिये 20 पदक पक्के कर दिये थे। कोविड-19 के कारण यात्रा प्रतिबंधों को देखते हुए कई देश इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले रहे हैं या उन्होंने कम खिलाड़ियों को उतारा है।

युवा वर्ग के स्वर्ण पदक विजेता को 6000 डॉलर, रजत पदक विजेता को 3000 डॉलर और कांस्य पदक विजेता को 2000 डॉलर की पुरस्कार राशि मिलेगी। जूनियर वर्ग में यह राशि क्रमश: 4000, 2000 और 1000 डॉलर है।

By News Room