डीडीएमए समिति ने दिल्ली में सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को चरणबद्ध तरीके से खोलने की सिफारिश की

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) द्वारा गठित विशेषज्ञों की एक समिति ने राष्ट्रीय राजधानी में स्कूलों को चरणबद्ध तरीके से फिर से खोलने की सिफारिश की है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि बुधवार को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में, समिति ने अनुशंसा की है कि स्कूलों को सभी कक्षाओं के लिए फिर से खोला जाना चाहिए लेकिन पहले चरण में वरिष्ठ कक्षाओं के विद्यार्थियों को बुलाया जाए और उसके बाद मध्यम कक्षा के विद्यार्थियों को और अंत में प्राथमिक कक्षाओं के विद्यार्थियों को।

एक सूत्र ने कहा, “समिति ने आज अपनी रिपोर्ट सौंपी है। अनुशंसाओं में सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोला जाना शामिल है लेकिन चरणबद्ध तरीके से। रिपोर्ट का विस्तार से अध्ययन किया जाएगा और इस संबंध में अंतिम फैसला जल्द लिया जाएगा।”

वर्तमान में, कक्षा 10वीं, 11वीं और 12वीं के विद्यार्थी माता-पिता की सहमति से प्रवेश और बोर्ड-परीक्षा संबंधी गतिविधियों के लिए स्कूलों में जा सकते हैं।

यह कहते हुए कि राष्ट्रीय राजधानी में स्कूलों को फिर से खोलने में कोई नुकसान नहीं है, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने छह अगस्त को अधिकारियों से विशेषज्ञ समिति गठित कर विस्तृत योजना तैयार करने को कहा था।

समिति का गठन उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया द्वारा बैजल की अध्यक्षता में हुई बैठक में डीडीएमए को यह बताए जाने के बाद किया गया था कि 19 जुलाई से 31 जुलाई के बीच सरकारी स्कूलों में हुई अभिभावक-शिक्षक महाबैठक (पीटीएम) में शामिल हुए कम से कम 90 प्रतिशत माता-पिता ने स्कूलों को फिर से खोलने के पक्ष में मत दिया।

सिसोदिया ने बैठक में यह भी कहा था कि एक साल से अधिक समय से स्कूल बंद होने से शिक्षा का बड़ा नुकसान हुआ है।
 

By News Room