चुनावों में जीत के बाद विजय जुलूस नहीं निकाल पाएंगे उम्मीदवार- चुनाव आयोग

 

देश में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणाम 2 मई को घोषित किए जाएंगे। अमूमन होता यह है कि चुनावों में जीत दर्ज करने वाली पार्टियां या प्रत्याशी अपनी जीत पर विजय जुलूस निकालते हैं और इसके  माध्यम से अपना शक्ति प्रदर्शन करते हैं लेकिन 2 मई को घोषित होने पांच राज्यों के चुनावी नतीजों के बाद ऐसा दृश्य देखने को नहीं मिलेगा। चुनाव आयोग ने विजयी पार्टियों और प्रत्याशियों द्वारा विजय जुलूस निकालने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है। चुनाव आयोग ने यह फैसला पांचों चुनावी राज्यों में बढ़ते कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए लिया है। चुनाव आयोग द्वारा दिए आदेश के अनुसार कोई भी पार्टी या प्रत्याशी जीत के बाद विजय जुलूस नहीं निकालेगी। विजयी प्रत्याशी सिर्फ दो व्यक्तियों के साथ जाकर अपना विजयी प्रमाण पत्र लेंगे। आदेश की अवहेलना करने वालों पर चुनाव आयोग कार्यवाही कर सकता है। चुनाव आयोग द्वारा मतगणना से सम्बन्धी कुछ दिशा निर्देश भी जारी किए जाने की संभावना है। भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने चुनाव आयोग द्वारा विजय दिवस पर रोक लगाने के फैसले का स्वागत किया है।

आपको बता दें कि मद्रास हाईकोर्ट ने कल ही देश में फैले कोरोना के दूसरे लहर के लिए चुनाव आयोग को दोषी माना है तथा आयोग अधिकारीयों पर मर्डर केस चलाने जैसे गंभीर टिप्पणी की है।  कोर्ट की फटकार के बाद अब चुनाव आयोग सख्त हुआ है और मतगणना से समबन्धी कड़े दिशा निर्देश जारी किए हैं।  2 मई को पश्चिम बंगाल, केरल, असम, तमिलनाडु और पुड्डूचेरी में हुए विधानसभा चुनावों के परिणाम घोषित किए जाएंगे। आपको बता दें कि बंगाल में एक चरण का मतदान अभी बाकी है।

                                        

By Pankaj Kumar